न्यूज़ Digest
Vishal Dubey 28 Oct, 2018 04:40 70970 26

सीमाओं से परे है माँ की ममता, अलग-अलग देशों की ये तस्वीरें हैं गवाह

देश कोई भी हो माँ का प्यार एक जैसा होता है। 

माँ के प्यार की सच में कोई तुलना नहीं है। हमें नौ महीने अपने भीतर रखकर सींचने वाली माँ की ममता को नापने का कोई पैमाना नहीं है। बच्चे के पैदा होने के दौरान माँ जितनी भयानक पीड़ा से गुजरती है उसे भी नापने का यंत्र नहीं बना है। वो सबकुछ सहकर बच्चे को धरती पर ले आती है और उसका बड़े जतन से लालन-पालन करती है। अपने हिस्से का कलेवा और अपना दूध पिलाकर उसे रोग से लड़ने की क्षमता देती है। धीरे-धीरे बच्चे बड़े होते हैं माँ उन्हें देखकर फूले नहीं समाती। उसका प्यार कभी कम नहीं होता। अगर माँ के कई बच्चे हैं तो वो ईमानदारी से हर बच्चे को बराबर ममता परोसती है।

आज हम उसी माँ की कुछ तस्वीरें लेकर आए हैं। ये तस्वीरें अलग-अलग देशों में ली गई हैं।आगे आप हर तस्वीर के साथ कवि ओम व्यास जी की माँ के लिए लिखी कविता को टुकड़ों में पढ़ेंगे। तस्वीरों में भरी ममता और कविता  की पंक्तियों के साथ आनंद लीजिए इस स्टोरी का।