अपनी वीरता से कठिनाइयों को जीतकर इस वर्ष ये 'बहादुर बच्चे' बने 'वीरता पुरस्कार' के हक़दार 

गणतंत्र दिवस की परेड में हुए शामिल। 

देश के बहादुर और वीर बच्चों की वीरता को प्रोत्साहन देने के लिए हर वर्ष 'वीरता पुरस्कार' से सम्मानित किया जाता है। 1957 से लगातार हर साल 25 बच्चों को 5 श्रेणियों में यह अवार्ड्स दिए जाते हैं। इन श्रेणियों में 'भारत पुरस्कार', 'गीता चोपड़ा पुरस्कार', संजय चोपड़ा पुरस्कार', 'बापू गैधानी पुरस्कार', 'सामान्य राष्ट्रीय वीरता  पुरस्कार' आदि शामिल हैं। 

यह पुरस्कार हर वर्ष गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर दिए जाते हैं। इन बच्चों को पुरस्कार के रूप में एक पदक, प्रमाण पात्र और नकद राशि प्रदान की जाती है। यह वीर बच्चे 26 जनवरी की परेड में भी सम्मिलित होते हैं।  

इस वर्ष नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 120वी जयंती यानि 23 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 बहादुर बच्चों को ये पुरस्कार प्रदान किये। 

आइये संक्षेप में जानते हैं, इन बच्चों की वीरता की कहानी।