लाइफ़
Staff 14 May, 2018 06:52 58461 11
  • Home
  • लाइफ़
  • लाइफ़
  • प्रेग्नेंसी में की गई लापरवाही से पड़ता है बच्चे के जेंडर पर असर

प्रेग्नेंसी में की गई लापरवाही से पड़ता है बच्चे के जेंडर पर असर

इसी कारण पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर बच्चे।

सुप्रीम कोर्ट ने चाहे किन्नरों को थर्ड जेंडर का दर्जा देकर उन्हें नई पहचान दे दी हो। लेकिन इसके बावजूद हमारे समाज में आज भी उन्हें सम्मान की नजरों से नहीं देखा जाता। अक्सर लोग ये सोचते हैं कि ट्रांसजेंडर कौन होते हैं? वो कैसे पैदा होते हैं?  

असल में ट्रांसजेंडर वे होते हैं, जिन्हें पुरुष और महिला दोनों से अलग तीसरी श्रेणी में रखा जाता है। डॉक्टर्स के मुताबिक, ट्रांसजेंडर लोगों में महिला और पुरुष दोनों के गुण एक साथ हो सकते हैं। ऊपर से पुरुष दिखाई देने वाले किसी व्यक्ति में इंटरनल ऑर्गन और गुण महिला के हो सकते हैं वहीं ऊपरी तौर पर महिला दिखाई देने वाले व्यक्ति में पुरुषों वाले गुण और ऑर्गन्स हो सकते हैं। 

डॉक्टर्स के अनुसार, प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महीने में शिशु का लिंग बनता है, ऐसे समय में यदि माँ ज़रा भी असावधानी बरतती है तो बच्चे में महिला और पुरुष दोनों के गुण आ सकते हैं। आज हम आपको बताते हैं कि प्रेग्नेंसी के दौरान किन-किन सावधानियों को रखकर आप अपने बच्चे को ट्रांसजेंडर पैदा होने से बचा सकते हैं।

आइये जानते हैं।