चाणक्य के अनुसार जानें कि धन व स्त्री में से किसे चुनना बेहतर है 

भारत में पैदा हुए विद्वानों में चाणक्य का नाम पहले स्थान पर आता है। 

चन्द्रगुप्त को एक साधारण इंसान से देश का सबसे ताकतवर शासक बनाने में जिस महान आचार्य का हाथ था, वो चाणक्य हैं। उनकी लिखी और कही हुई बातों से न केवल राजनीतिशास्त्र बल्कि नीतिशास्त्र और अर्थशास्त्र भी आज तक प्रभावित जान पड़ते हैं। उनके ही लिखे हुए एक श्लोक का सार हम आपके लिए लेकर आए हैं।

चाणक्य के ऊपर अक्सर ये आरोप लगते हैं कि उनकी बातें अक्सर महिला विरोधी होती थीं। लेकिन एक दुविधा के हल में उन्होंने जो बात इस श्लोक के माध्यम से कही है उससे तय किया जा सकता है कि उनकी महिलाओं को लेकर क्या सोच थी। आइए पढ़ते हैं और जानते हैं कि चाणक्य के अनुसार पैसे और स्त्री के मध्य चुनाव करने की स्थिति में पुरुषों को किसे चुनना चाहिए।