मुंह में चांदी की चम्मच लेकर पैदा हुए वो पांच खिलाड़ी जो माही की कप्तानी में विश्वकप खेले

इन पांच खिलाड़ियों की किस्मत राहुल गाँधी, तेजस्वी और अखिलेश यादव से भी जबर निकली। 

महेंद्र सिंह धोनी, माही या महिया इनमें से कोई एक नाम सुनते ही जो चेहरा सामने आता है वो है भारत का महानतम क्रिकेट कप्तान। मुगदर सा बल्ला घुमाने वाला, बिना विकेट की ओर देखे थ्रो को स्टंप्स में धकेलने वाला और बिजली सी चपलता से स्टंपिंग करने वाला क्रिकेटर धोनी, भारत के लिए किसी हीरे से कम नहीं। उसके फैन तो ये तक दावा करते हैं कि अगर धोनी फुटबॉल ही खेलता रहता तो अब तक भारत में फीफा वर्ल्डकप भी आ चुका होता। 331 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैचों में कप्तानी करके कार्यभार छोड़ चुके धोनी के सान्निध्य में खेलने की इच्छा किस क्रिकेटर में न होगी। आज हम बात करेंगे ऐसे पांच खिलाड़ियों की जिनका अंतर्राष्ट्रीय करियर ज्यादा बड़ा नहीं रहा, पर उन्हें वर्ल्डकप खेलने के साथ-साथ धोनी की कप्तानी का भी सौभाग्य प्राप्त हुआ।