बारिश में इश्क़ का मीठा दर्द महसूस कराती हैं ये शायरी

इश्क़ और दर्द का होता है बहुत गहरा रिश्ता।

मेरी ही तरह मेरे अल्फाज़ भी तुम्हारे गुलाम बने बैठे हैं,

जब भी कलम उठाता हूँ, ये कागज पर तुम्हें उकेर देते हैं।

ये सिर्फ मेरी ही नहीं बल्कि ना जाने कितने शायरों की कहानी है। वैसे तो इश्क़ की वो डोर किसी को नजर नहीं आती जिससे हम, मीलों दूर होते हुए भी किसी शख्स से जुड़े हुए होते हैं। कई बार तो प्यार करने वाले भी इस बात से बेखबर होते हैं कि उनके लफ्ज़, उनकी शायरी, उनके दिन, उनके रात, उनकी धड़कन, उनकी साँसें सभी किसी के गुलाम बने हुए हैं। 

ये इश्क़ जो ना करे वो कम है। ये एक ऐसा एहसास है जिसमें मिली हर एक चीज़ नायाब और खूबसूरत होती है। ऐसी ही एक खूबसूरत चीज है दर्द जिससे आशिकों का बहुत गहरा नाता होता है और बारिश में तो इस दर्द का मज़ा और भी रंगीन हो जाता है। अगर आपका दिल भी किसी और के लिए धड़कता है तो आज हम आपके लिए इश्क़ के मीठे दर्द से लबरेज कुछ शायरी लेकर आए हैं जो सीधी आपके दिल से गुजरकर आपकी रूह में उतर जाएंगी।