हर स्त्री के होते हैं चार पति, आपका नंबर है चौथा, जानिए कैसे

वैदिक परम्परा है इसकी वजह।

आजकल पश्चिमी सभ्यता से प्रभावित भारतीय लोग अपना धर्म, मान्यताएँ, रीति रिवाज़ सब कुछ भूल चुके हैं। या ऐसा कहें कि पाश्चात्य जीवनशैली को अपनाने के चक्कर में हम अपने धर्म से जुड़ी मान्यताओं के बारे में जान ही नहीं पाते। आप, मैं, बल्कि हम में से अधिकतर लोग हिन्दू धर्म के वेद-पुराण आदि के बारे में कोई जानकारी नहीं रखते हैं। लेकिन पुराणों के नियमानुसार एक स्त्री, एक समय में चार पुरुषों के साथ विवाह के बंधन में बंध सकती है।

आइये जानते हैं इसके पीछे की वजह।