आर बी आई का अहम् फैसला, अब शहर-शहर खुलेगा 'पेटीएम' बैंक

पेटीएम को मिली एक बड़ी कामयाबी। 

पेटीएम की जितनी मांग नोटबंदी से पहले थी उससे दोगुनी मांग नोटबंदी के बाद हो गई है। गांव-गांव, गली-गली पेटीएम की लहर दौड़ रही है। अभी तक पेटीएम एक मोबाइल वॉलेट हुआ करता था। अभी तक हम सिर्फ, अपने खाते को पेटीएम से जोड़ भारत वर्ष में किसी के साथ भी पैसों का लेन-देन और घर बैठे शॉपिंग कर सकते थे। लेकिन अब पेटीएम एक और स्तर ऊपर उठने जा रहा है। पेटीएम को अब आर.बी.आई. की ओर से बैंक खोलने की आधिकारिक अनुमति मिल गई है।