सारी पंचायतों से दूर यहां पढ़ो अयोध्या का सच्चा इतिहास

शर्कियों के आधीन भी रहा था अयोध्या।

कहते हैं कि 2200 ई.पू. के आसपास ही अयोध्या नगरी की स्थापना हो गई थी। हिन्दू धर्म के इतिहास में इस शहर की बहुत बड़ी भूमिका रही थी। अगर इतिहास में थोड़ा मध्यकालीन भारत की ओर आएं उस दौर में भी यहाँ मुगलों और शर्कियों ने राज किया। प्राचीन भारत में काशी, मथुरा और अयोध्या को तीर्थ के लिए सबसे उचित स्थान माना जाता था। ये वो दौर था जब प्रयाग को तीर्थों में नहीं गिना जाता था। जैनों के तीर्थंकर ऋषभदेव जी महाराज के साथ-साथ चार अन्य तीर्थंकरों का जन्मस्थान अयोध्या ही था।

अगर आधुनिक भारत की बात करें तो धर्म से लेकर राजनीति तक को प्रभावित करने वाले इस शहर की कहानियां तह में धंसी हुई हैं। इन कहानियों को इतना नीचे दफन किया गया है कि आज के दौर में होने वाले कई विवादों को सुलझाने में सालों साल लग जा रहे हैं। आइये इस आर्टिकल के माध्यम से अयोध्या के इतिहास को जानने का प्रयास करते हैं।