Religion
Satish23 Nov, 2018

हिन्दू धर्म से जुड़े 7 मिथक, जिसे शायद आपने भी सच मान लिया होगा

मिथक का मतलब ही मिथ्या है। 

दुनिया में जितने भी धर्म हैं उन सबमें कुछ न कुछ मिथक प्रचलित होते हैं, जिनके पीछे कोई वैज्ञानिक आधार नहीं होता। ये मिथक ऐसे होते हैं जिन्हें तर्क की कसौटी पर कसने पर इसकी असलियत सामने आ जाती है। हिन्दू धर्म भी इस मामले में अपवाद नहीं है, इसमें भी कई मिथक प्रचलित हैं। 

इन मिथकों को कई लोग सच मान कर आजीवन इस भ्रम में रहते हैं कि उन्हें सच पता है। मगर जिस पल उन्हें इसके बारे में कोई तथ्य और तर्क दिए जाते हैं तो उनकी अपनी जड़ सोच की वजह से उसे मानने से इनकार कर देते हैं। ऐसे लोग ज्यादा भावुक किस्म के होते हैं जिनकी भावनाएं बहुत जल्द आहत हो जाती है। ऐसे लोगों को सच से कोई मतलब नहीं होता है, ये अलग ही मिथ्या के संसार में रहते हैं।

आज हम खासकर ऐसे ही लोगों के लिए ये स्टोरी लेकर आए हैं, ताकि उन लोगों के भ्रम को दूर करने की एक कोशिश कर के देखी जाए। वैसे अगर आपको मिथकों की सच्चाई पता है तो भी कुछ नए मिथक आपकी जानकारी को समृद्ध करेंगे। तो बिना देर किए चलिए आप और हम चलते हैं हिन्दू धर्म के मिथकों की ओर, और उसकी सच्चाई से परिचित होते हैं।