नेत्रहीन होने के बावजूद करोड़ो की कंपनी के मालिक हैं, हैदराबाद के श्रीकांत बोला

इनकी कहानी है बहुत ही प्रेरणात्मक। 

यह कहानी है हैदराबाद के रहने वाले श्रीकांत बोला कि जो जन्म से ही दृष्टिहीन हैं, लेकिन श्रीकांत को पढ़ने का ख़ूब शौक़ है। श्रीकांत विज्ञान विषय से 11वीं करने वाले देश के पहले दृष्टिहीन हैं। श्रीकांत एमआईटी में एडमिशन लेने वाले पहले गैर-अमेरिकी दृष्टिहीन थे। उन्होनें अपनी इस कमी को अपने उपर हावी नहीं होने दिया और आज वो 50 करोड़ की कंपनी के मालिक हैं। लेकिन श्रीकांत के लिए यहां तक पहुंचना किसी चुनौति से कम नहीं था।