विज्ञान ने खोला रहस्य, मनुष्य में होता है तीसरी आँख का अस्तित्व 

सिर्फ भगवान शिव नहीं, सभी मनुष्यों में है तीसरी आँख। 

भगवान शिव सबकी मनोकामना पूरी करने के साथ ही विनाश करने वाले देवता भी माने जाते हैं। उनके हाथ में एक त्रिशूल होता है। इस त्रिशूल में तीन शक्तिशाली शक्तियों का वास होता है जो इच्छाशक्ति, कर्म और बुद्धि मानी जाती है। भगवान शिव के मस्तक के मध्य में तीसरी आँख भी होती है। माना जाता है कि जब भोलेनाथ क्रोधित होते हैं तब अपनी तीसरी आँख खोल लेते हैं और अपराधी का विनाश कर देते हैं।

लेकिन भगवान शिव की तीसरी आँख होने का यह कारण नहीं है। तो फिर इसका क्या कारण है? आइये जानते हैं।