जल्लीकट्टू पर लगे बैन पर तमिलनाडु में विरोध, जानें क्या है इस प्रथा में ख़ास 

एक नज़र इस 5000 साल पुरानी प्रथा पर। 

Jallikattu को Eruthazhuvuthal नाम से भी जाना जाता है। जल्लीकट्टू सदियों से चली आ रही परंपरा का हिस्सा है। जनवरी के महीने में पोंगल के अवसर पर ये खेल तमिलनाडु में खेला जाता है।

इस खेल में सांड को बहुत से मनुष्यों के बीच खुला छोड़ दिया जाता है, सांड के सींग में एक छोटा झंडा लगा हुआ रहता है, जिसे निकालना होता है। झंडा निकालने के लिए सांड के ऊपर चढ़ के बैठना पड़ता है। जो व्यक्ति सबसे ज़्यादा देर तक सांड पर बैठा रह कर उसके सींग में बँधे झंडे को उतार लेता है, उसकी जीत होती है। इस खेल में कई लोगों की जान भी चली जाती है, बहुत से लोग घायल हो जाते हैं। आगे जानेंगे इस खेल से जुड़े रोचक तथ्य।