इस वजह से मनाया जाता है धनतेरस, जानिए इसके पीछे की पूरी कहानी 

धनवंतरी की भी होती है पूजा। 

एक मान्यता के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन के दौरान, अमृत का कलश लेकर धनवंतरी प्रकट हुए थे। इस कारण इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, धनवंतरी के प्रकट होने के ठीक दो दिन बाद माँ लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं। यही कारण है कि हर बार दिवाली से दो दिन पहले ही धनतेरस मनाया जाता है। इस दिन स्वास्थ्य की रक्षा के लिए धनवंतरी देव की उपासना की जाती है। इस दिन को कुबेर का दिन भी माना जाता है और धन संपन्नता के लिए कुबेर की पूजा की जाती है।

संसार में चिकित्सा विज्ञान के विस्तार और प्रसार के लिए ही भगवान विष्णु ने धनवंतरी का अवतार लिया था। भगवान धनवंतरी के प्रकट होने के उपलक्ष्य में ही धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है। धनतेरस के दिन अपने सामर्थ्य के अनुसार किसी भी रूप में चांदी एवं अन्य धातु खरीदना शुभ माना जाता है। तो आइये धनतेरस से जुड़ी कुछ और मान्यताओं को जानते है।