'खिलौना नहीं इंसान हैं हम...', आखिर कब समझेगा ये समाज?

एक बार आईने में ज़रा खुदको देखिए। 

Advertisement

मैं भारत की बेटी हूँ और मैं आपको बताना चाहती हूँ कि मुझे बहुत डर लग रहा है और असुरक्षित महसूस हो रहा है। मेरा ये डर आज का नहीं बल्कि तब से है जब मैं अपनी माँ के गर्भ में थी। मुझे तब भी यही डर लगता था कि दुनिया मुझे मार देगी और आज भी मुझे यही डर है कि दुनिया मुझे नुकसान पहुंचाएगी। 

आज की दुनिया इतनी मॉडर्न हो गई है कि लड़कियां, लड़कों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं। लेकिन बेटियों को आज भी सम्मान की नज़रों से नहीं देखा जाता जिनकी वो हकदार हैं। दहेज ना मिलने पर उन्हें प्रताड़ित किया जाता है, अपनी हवस मिटाने के लिए उनका इस्तेमाल किया जाता है और ये समाज कुछ नहीं कर पाता। 

ऐसा मैं अपनी मर्जी से नहीं बल्कि हाल ही में हुए घटनाक्रम से आहत होकर कह रही हूँ। आप ही जवाब दीजिए, क्या गलती थी उस 8 वर्ष की मासूम की। फिर भी उसे शिकार बनाया गया। 

WittyFeed की महिलाओं के साथ-साथ हम सभी WittyFeedians आसिफा के साथ खड़े हैं। 

Advertisement